बिहार का स्पष्ट जनादेश


बिहार के लोगों ने अपने दिल की बात कह दी। पूरे देश में भी जनता ने अपने दिल की बात स्पष्ट कर दी। बिहार में मिले जबरदस्त जनादेश को देश के विभिन्न भागों में हुए उपचुनावों में भाजपा की जीत से देशव्यापी समर्थन मिला है। बिहार में मिले स्पष्ट एवं सुदृढ़ जनादेश की गूंज देश के कोने-कोने में मिली शानदार जीत में सुनाई पड़ रही है। देश की जनता एक-दूसरे के स्वर में स्वर मिलाकर भाजपा एवं राजग के समर्थन में एकजुट है तथा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में अपनी अटूट आस्था व्यक्त कर रही है। नकारात्मक राजनीति, झूठे दुष्प्रचार एवं दुर्भावनापूर्ण एवं विद्वेषपूर्ण राजनीति को एक बार पुनः पराजय का मुंह देखना पड़ा है। वास्तव में देखा जाए तो यह एक उभरते भारत की आहट है जो कोविड-19 महामारी के सामने भी रुकता नहीं, बल्कि नए संकल्प लेकर नई गाथाएं रचता है। आज जब विश्व के विकसित देश भी कोविड-19 महामारी के सामने त्राहिमाम कर रहे हैं, भारतीय लोकतंत्र की सफलता पूरी दुनिया को चमत्कृत कर रही है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने विजय के अवसर पर अपने संबोधन में ठीक ही कहा कि अपने जनादेश से लोकतांत्रिक शक्तियों को मजबूत कर बिहार ने यह प्रमाणित कर दिया है कि वह लोकतंत्र की धरती है। एक ओर जहां राजग ‘आत्मनिर्भर बिहार’ की भविष्योन्मुखी कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश को आगे ले जाने को कृतसंकल्पित है, वहीं दूसरी ओर राजद, कांग्रेस एवं कम्युनिस्टों का गठजोड़ जातिवाद, वंशवाद एवं पाखंड पर आधारित विभाजनकारी एवं प्रतिगामी शक्तियों का प्रतिनिधित्व करता है। बिहार की जनता लालू कुशासन के ‘जंगलराज’ के वो 15 वर्ष कभी न भूल पाएगी जब प्रदेश न केवल अवनति के दल-दल में फंस गया था, बल्कि अपराधियों एवं माफियाओं के राज में आए दिन हिंसा, अपहरण एवं कुशासन को सहने पर मजबूर था। हर स्तर पर व्यापक भ्रष्टाचार, सरकारी खजाने की भारी लूट एवं आपराधिक तंत्र को संरक्षण के कारण समाज के हर वर्ग का जीना मुहाल हो गया था। राजग सरकार ने न केवल बिहार को हिंसा, भ्रष्टाचार एवं कुशासन के दमन चक्र से बाहर निकाला, बल्कि प्रदेश में सुशासन एवं विकास का मार्ग प्रशस्त किया। बिहार, न केवल लालू कुशासन के ‘जंगलराज’ को पीछे छोड़ अब आगे बढ़ा है, बल्कि इसने विकास एवं सुशासन के कई मानदंडों पर अपनी उपलब्धियों से पूरे देश में एक संदेश दिया है। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने ठीक ही कहा है कि बिहार की जनता ने ‘लालटेन राज’ की जगह पर ‘एलईडी राज’ चुनकर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में अपने दृढ़ विश्वास को एक बार पुनः प्रदर्शित किया है।

बिहार के साथ-साथ, मध्यप्रदेश उपचुनावों में भारी विजय, गुजरात में सभी सीटों पर विजय, उत्तर प्रदेश, मणिपुर, तेलंगाना एवं कर्नाटक में जबरदस्त जीत, लद्दाख हिल काउंसिल एवं दादर एवं नगर हवेली स्थानीय निकायों में मिली विजयश्री से पूरे देश में भाजपा के प्रति उमड़ते जनसमर्थन का पता चलता है। भाजपा पूर्व से पश्चिम एवं उत्तर से दक्षिण तक व्यापक जनसमर्थन प्राप्त कर यह प्रमाणित करने में सफल रही है कि सकारात्मक राजनीति को देश की जनता का भरपूर आशीर्वाद मिलता है। जो राजनैतिक दल, देशहित तक पर चोट करते हुए नकारात्मक राजनीति में झूठ एवं फरेब का सहारा लेकर दुष्प्रचार में संलिप्त हैं, उन्हें जनता चुनावों में बार-बार धूल चटाकर दंड दे रही है। कोविड-19 महामारी में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जिस प्रकार से देश का नेतृत्व किया और गरीब से गरीब व्यक्ति, वरिष्ठ नागरिक, किसान, प्रवासी मजदूर, महिला, दिव्यांग और समाज के अन्य वर्गों को भारी राहत दी तथा हर क्षेत्र में भारी सुधार शुरू किए, देश का मनोबल ऊंचा रखा एवं भाजपा के लाखों कार्यकर्ताओं ने ‘सेवा ही संगठन’ कार्यक्रम के माध्यम से करोड़ों लोगों की जिस प्रकार सेवा की, उसे पूरे देश ने कोने-कोने में भारी समर्थन दिया है। ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान के अंतर्गत देश के बढ़ते हुए कदमों को जन-जन का जबरदस्त समर्थन प्राप्त हो रहा है, जिससे देश हर चुनौती को अवसर में बदलते हुए एक नए भारत का पथ प्रशस्त कर रहा है।

           shivshakti@kamalsandesh.org