पांचों प्रदेशों में भाजपा को मिल रहा जनाशीर्वाद


चुनाव आयोग द्वारा पांच प्रदेशों में चुनावों की घोषणा के साथ ही असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं केरल में चुनाव प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। दो महीनों तक चलने वाले इस चुनाव में कई चरणों में मतदान होंगे। अब जबकि कोविड-19 महामारी का प्रभाव कम हो रहा है, लोग चुनावी प्रक्रिया में और भी अधिक उत्साह से भाग ले रहे हैं। इसका प्रमाण बिहार के चुनावों, विभिन्न प्रदेशों के उपचुनावों एवं कई स्थानीय निकायों के चुनावों में देखा गया है। आशा है इन पांच प्रदेशों के चुनावों में भी जनभागीदारी अधिक रहेगी।

हाल में हुए अनेक चुनावों में भारतीय जनता पार्टी पहली पसंद होकर उभरी है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं भारतीय जनता पार्टी पर जन-जन का भरोसा पहले से भी अधिक मजबूत हुआ है। जिस प्रकार से भारत ने कोविड-19 वैश्विक महामारी का सामना किया है, वह पूरे विश्व के लिए एक उदाहरण है। भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा महामारी के दौर में जरूरतमंदों एवं गरीबों की सेवा राजनीतिक दल के एक नए आयाम को प्रस्तुत कर रही है। भाजपा पूरे देश में लोगों का दिल जीतने में सफल हुई है।

असम की भाजपा सरकार ने प्रदेश के पूरे राजनीतिक एवं आर्थिक परिदृश्य को व्यापक रूप से परिवर्तित कर शांति, प्रगति एवं विकास का मार्ग प्रशस्त किया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को पूरे उत्तर-पूर्व एवं विशेषकर असम पर ध्यान केंद्रित करने तथा मुख्यमंत्री श्री सर्वानंद सोनोवाल द्वारा सरकार की योजनाओं, परियोजनाओं एवं कल्याण कार्यक्रमों के प्रभावी क्रियान्वयन से लोगों का विश्वास भाजपा पर कई गुना अधिक बढ़ा है।

एक ओर जहां असम में लोग भाजपा सरकार को पुनः चुनने का मन बना चुके हैं, पश्चिम बंगाल में लोगों का भाजपा के प्रति भारी जनसमर्थन दिख रहा है। कांग्रेस, कम्युनिस्ट एवं तृणमूल कांग्रेस के लगातार विश्वासघात के कारण लोगों का इन राजनीतिक दलों से पूरी तरह मोहभंग हो चुका है और अब लोग भाजपा की ओर आशा भरी निगाहों से देख रहे हैं। कांग्रेस, कम्युनिस्ट एवं तृणमूल भारी लूट, भ्रष्टाचार, राजनीतिक हिंसा, तुष्टीकरण एवं प्रतिगामी राजनीति के प्रतीक बनकर रह गए हैं। भाजपा लोगों की आशा एवं विश्वास का प्रतीक बन गई है, इसका उदाहरण 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी द्वारा 18 सीटों पर विजय से मिलता है। भाजपा के प्रति जन-जन का समर्थन दिन-दूनी एवं रात-चौगुनी के रूप में बढ़ रहा है। इसमें अब कोई संदेह नहीं कि इन विधानसभा चुनावों में कांग्रेस, कम्युनिस्ट एवं तृणमूल पूरी तरह से प्रदेश की राजनीति में हाशिए पर चले जाएंगे और भाजपा एक मजबूत शक्ति बनकर उभरेगी।

तमिलनाडु एवं पुडुचेरी में भाजपा अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है। द्रमुक-कांग्रेस गठबंधन, जो किसी भी तरह की वैकल्पिक कार्यक्रम या योजना जनता के सामने प्रस्तुत नहीं कर पाया है, की राजनीतिक जमीन प्रदेश में पूरी तरह से खिसक चुकी है। अब जबकि अन्नाद्रमुक-भाजपा एक मजबूत गठबंधन के रूप में उभरा है, इस पर पुनः जनता भरोसा जताएगी, यह निश्चित लगता है। पुडुचेरी में कांग्रेस सरकार के गिरने के बाद अन्नाद्रमुक-भाजपा गठबंधन को प्रदेश में भारी जनसमर्थन मिल रहा है।

केरल में आत्मविश्वास से परिपूर्ण भाजपा यूडीएफ-एलडीएफ को अपने कार्यक्रम एवं नीतियों के आधार पर चुनौती दे रही है। स्थानीय निकाय चुनावों में पहले से काफी ज्यादा बढ़त बनाने के बाद भाजपा को प्रदेश में भारी जनसमर्थन मिल रहा है और ‘मैट्रोमैन’ ई. श्रीधरन जैसे व्यक्तित्व भाजपा में शामिल हुए हैं। केरल में भाजपा के पक्ष में चैंकाने वाले परिणाम आएंगे।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा की जनसभाओं में भारी जनसमर्थन दिखाई पड़ रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की ब्रिगेड ग्राउंड, कोलकाता में हुई विशाल जनसभा से यह स्पष्ट है कि जनता अब ‘आसोल पोरिबर्तन’ का मन बना चुकी है। भाजपा कार्यकर्ताओं को राष्ट्रसेवा में समर्पित सेवा कार्यों के लिए पूरे देश से भरपूर जनाशीर्वाद मिल रहा है। इन पांच प्रदेशों में भी जनता भाजपा को अपना आशीर्वाद देने को तैयार है।

shivshaktibakshi@kamalsandesh.org