हम पुनः प्रदेश में सरकार में आयेंगे और सेवा के अपने संकल्प को आगे बढ़ाएंगे


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने 11 जनवरी 2021 को सिलचर (असम) के पुलिस पैरेड ग्राउंड में आयोजित विशाल जन-सभा को संबोधित किया और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र और श्री सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में असम की भाजपा सरकार की विकास गाथा को विस्तार से वर्णित करते हुए केंद्र एवं राज्य सरकार की विकास योजनाओं पर विस्तार से चर्चा की। जन-सभा को असम के मुख्यमंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल और नार्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस (नेडा) के कन्वीनर डॉ हिमंता बिस्वा सरमा ने भी संबोधित किया। ज्ञात हो कि माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष आज से दो दिनों के प्रवास पर असम में हैं जहां वे कई सांगठनिक एवं समीक्षा बैठकें कर रहे हैं। इससे पहले आज सिलचर पहुँचने पर पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का भव्य स्वागत किया गया। कार्यक्रम में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री रणजीत कुमार दास, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं असम के प्रभारी श्री बैजयंत पांडा, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्री दिलीप सैकिया, असम के सह-प्रभारी श्री पवन शर्मा सहित पार्टी के सांसद, विधायक, पदाधिकारी एवं भारी मात्रा में राज्य की जनता उपस्थित थी।

श्री नड्डा ने अपने उद्बोधन की शुरुआत में सबसे पहले संत श्रीमंत शंकरदेव, उनके शिष्य श्री माधवदेव, महान संत अजान फकीर को नमन करते हुए उन्होंने स्वतंत्रता सेनानी श्री तजी मिडरें, श्री हेम बरुआ और असम की पहचान भारत रत्न भूपेन हजारिका जी को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि दी। उन्होंने बराक वैली को भाजपा का गढ़ बताते हुए असम की जनता का धन्यवाद किया कि 2016 के विधान सभा चुनाव से लेकर आज तक हुए सभी चुनावों, चाहे वह राज्य के अलग-अलग हिस्सों में हुए टेरिटोरियल काउंसिल के चुनाव हों, स्थानीय निकाय के चुनाव हों, या उप-चुनाव, असम की जनता ने लगातार भाजपा को अपना आशीर्वाद दिया है। यह स्थिति केवल असम की नहीं, पूरे देश की है। लद्दाख हिल काउंसिल के चुनाव में भाजपा को शानदार विजय मिली, जम्मू-कश्मीर के डीडीसी चुनाव में गुपकर अलायंस के बावजूद भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी, अरुणाचल प्रदेश के स्थानीय निकाय के चुनाव में भाजपा को अभूतपूर्व विजय मिली, सिलवासा और गोवा के स्थानीय निकाय में भाजपा को एकतरफा जीत मिली, जीएचएमसी चुनाव में भाजपा ने सफलता के परचम लहराए और राजस्थान के ग्रामीण अंचल में भी भाजपा ने किसानों के आशीर्वाद से सफलता का नया अध्याय लिखा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में टीम इंडिया देश के विकास के लिए कटिबद्ध है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार और भारतीय जनता पार्टी असम की संस्कृति, भाषा और विरासत को संभाल कर रखने के लिए संकल्पित है और हमने इसे चरितार्थ कर दिखाया है। चाहे अहोम भाषा के संरक्षण की बात हो या असम के आंदोलन की आवाज बनने की बात, भारतीय जनता पार्टी ने सदैव आगे बढ़ कर इसे आगे बढ़ाया है। असम के आंदोलन को देश की आवाज सबसे पहले श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी ने संसद के अंदर और बाहर बनाया था। हमने ‘कश्मीर हो या गुवाहाटी, अपना देश अपनी माटी’ का नारा दिया था। यह एनडीए की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार थी जिसने महान स्वतंत्रता सेनानी गोपीनाथ बारदोलोई जी को भारत रत्न दिया था और अब भाजपा की श्री नरेन्द्र मोदी सरकार है जिसने असम की पहचान श्रद्धेय भूपेन हजारिका जी को भारत रत्न से सम्मानित किया।   श्री नड्डा ने कहा कि यह असम की भाजपा सरकार है जिसने यहाँ के छह समुदायों कोच, राजबोंगशी, ताई अहोम, चुटिया, मतक, मोरान और टी ट्राइब्स को एसटी का स्टेटस देकर वर्षों पुरानी मांग को पूरा किया जिसे कांग्रेस ने वर्षों लटका कर रखा था। लगभग 50 वर्षों तक बोडो आंदोलन चला, कई लोगों की जानें इसमें गई लेकिन भाजपा की सरकार में ये आंदोलन ख़त्म हुआ। हमने उन्हें समाज की मुख्यधारा में लाने के लिए 1500 करोड़ रुपये का प्रावधान किया। इसी तरह, त्रिपुरा में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन और गृह मंत्री श्री अमित शाह  के सहयोग से ब्रू-रियांग समस्या का भी समाधान हुआ। यह भाजपा सरकार है जिसने लैंड-स्वीप करके असम की बॉर्डर समस्या का भी समाधान किया। स्मार्ट फैंस प्रोजेक्ट से असम की जनता को हमारी सरकार ने घुसपैठ से बचाया।

कांग्रेस पर हमला करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस के शासन में प्रोजेक्ट शुरू होते थे लेकिन ख़त्म नहीं होते थे, उलटे प्रोजेक्ट का बजट कई गुना बढ़ जाता था। हमारी सरकार में भूपेन हजारिका सेतु और बोगिविल ब्रिज का भी काम पूरा हुआ, असम गैस क्रैकर प्रोजेक्ट भी पूरा हुआ। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यूपीए की सरकार में असम के विकास के लिए सिर्फ 50,000 करोड़ रुपये दिए गए जबकि मोदी सरकार में असम के विकास के लिए तीन लाख करोड़ रुपये दिए गए। मुझे खुशी है कि जब मैं स्वास्थ्य मंत्री था तो मैंने गुवाहाटी को 1,350 करोड़ रुपये की लागत से एक AIIMS दिया जिस पर प्रतिवर्ष लगभग 2000 करोड़ रुपये का रेकरिंग खर्च आयेगा। इतना ही नहीं, पूरे असम में 8 नए मेडिकल कॉलेज खोले गए। अभी हाल ही में गृह मंत्री श्री अमित शाह  ने 835 करोड़ रुपये की लागत से एक नए मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया है। असम में ऑयल रिफायनरी के लिए लगभग 22 हजार करोड़ रुपये और नुमालीगढ़ बायो रिफाइनरी के लिए लगभग साढ़े 12 हजार करोड़ रुपये दिए गए। इसके अतिरिक्त राज्य में 15 नए हाइवे, 31 नए स्टेट हाइवे और ब्रह्मपुत्र पर पांच नए ब्रिज का निर्माण हुआ है।

श्री नड्डा ने कहा कि जब असम की कमान सर्बानंद सोनोवाल सरकार ने संभाली, तब असम में भारी संख्या में टॉयलेट्स की कमी थी। लगभग 56% महिलाओं के पास टॉयलेट्स नहीं था। मोदी सरकार में देश भर में लगभग 11 करोड़ टॉयलेट्स का निर्माण कराया गया जिसमें से 35 लाख असम में बने। अब असम भी ओडीएफ हो गया है। देश में खोले गए लगभग 40 करोड़ जन-धन खातों में से 1.66 करोड़ खाते असम में खुले। कोविड लॉकडाउन के दौरान देश के लगभग 20 करोड़ महिला जन-धन खाता धारकों के एकाउंट में तीन किस्तों में 1500 रुपये डाले गए। देश में 8 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को गैस कनेक्शन दिए गए जिसमें से लगभग 35 लाख कनेक्शन केवल असम में दिए गए। देश भर में सौभाग्य योजना के तहत जहां 2.60 करोड़ घरों में बिजली पहुंचाई गई, वहीं असम में भी लगभग 17 लाख घरों में बिजली पहुंचाई गई। आयुष्मान भारत योजना से देश भर में जहां लगभग 50 करोड़ लाभान्वित हो रहे हैं, वहीं असम में भी 1.11 लाख लोग अब तक इस योजना का लाभ उठा चुके हैं जिस पर करोड़ों रुपये का खर्च आया है।

माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि असम की भाजपा सरकार द्वारा 12वीं पास करने पर बहनों को स्कूटी दी गई है। आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की लगभग 2.17 लाख बहनों को साइकिल दी गई है। ये केवल स्कूटी या साइकिल नहीं, बल्कि उनका सम्मान है। कांग्रेस के जमाने में लोगों को पता ही नहीं था कि वे अपनी जमीन के अधिकारी है। ब्रह्मपुत्र और बराक वैली में प्रथम चरण में लगभग 1.10 लाख लोगों को जमीन का पट्टा दिया गया है जबकि द्वितीय चरण में भी लगभग इतने ही लोगों को जमीन का पट्टा दिया जाएगा। असम में ब्रह्मपुत्र पुष्कर मेला और स्वामी विवेकानंद असम यूथ एम्पावरमेंट योजना की शुरुआत की गई है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत में असम को आगे बढ़ाना है। वोकल फॉर लोकल के तहत बैम्बू इंडस्ट्री, जूट उद्योग, टी उद्योग को असम में आगे बढ़ाना है।

श्री नड्डा ने कहा कि जहाँ तक लॉ एंड ऑर्डर की बात है तो यह हम सबको पता है कि कांग्रेस के समय असम में क़ानून-व्यवस्था की कितनी दयनीय स्थिति थी। भाजपा सरकार में समाज से भटके हुए हजारों लोगों ने आत्मसमर्पण किया। कांग्रेस की सरकार में बड़ी संख्या में लोग ह्यूमन ट्रेफिकिंग का शिकार बनते थे लेकिन आज इस पर रोक लगाने का काम सर्बानंद सोनोवाल सरकार ने किया है। कांग्रेस के 15 सालों में असम में लगभग दो हजार से अधिक सिविलियंस और लगभग 284 सिक्योरिटी पर्सन्स को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। लगभग 1200 लोग इस दौरान किडनैप कर लिए गए थे। लगभग 51% लोग बिना बिजली के रहने को विवश थे कांग्रेस की सरकार में लेकिन आज हर क्षेत्र में स्थितियां बदली हैं और असम विकास की नित नई गाथा लिख रही है। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण के दौरान मुख्यमंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल जी एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री हिमंता बिस्व सरमा जी ने बेहतरीन कम्युनिटी सर्विलांस सिस्टम डेवलप किया जिसका परिणाम ये है कि असम की फैटिलिटी रेट काफी कम है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने असम की जनता का आह्वान करते हुए कहा कि आने वाले विधान सभा चुनाव में प्रदेश की जनता भारतीय जनता पार्टी को सेवा का एक अवसर और दें और प्रदेश को विकास के पथ पर और तेज गति से अग्रसर बनाए रखें। भाजपा प्लस, 100 प्लस। मैंने असम की जनता का प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के लिए अपार प्यार और स्नेह देखा है। असम में भी हम यहाँ की जनता के आशीर्वाद से पुनः सरकार में आयेंगे और सेवा के संकल्प को आगे बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा सरकार और असम में भाजपा की सर्बानंद सोनोवाल सरकार – डबल इंजन की इस सरकार ने असम के हर क्षेत्र में विकास की नई कहानी लिखी है। सरकार और पार्टी ने मिलकर प्रदेश में काफी अच्छा काम किया है। प्रधानमंत्री जी के विकास के विजन को भाजपा की सर्बानंद सोनोवाल सरकार ने असम में जमीन पर उतारा है।