कोरोना के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया को अपना मॉडल दिया है : जगत प्रकाश नड्डा


भारतीय जनता के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा जी ने आज हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में आयोजित प्रदेश कार्यसमिति की बैठक को संबोधित किया. इससे पूर्व, आज सुबह, राष्ट्रीय अध्यक्ष के कांगड़ा के गगल एअरपोर्ट पहुँचने पर मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर समेत सैंकड़ों की तादाद में उपस्थित कार्यकर्ताओं द्वारा जयघोष के साथ भव्य स्वागत किया गया.

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कार्यसमिति की बैठक में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पंचायत चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का बेहतरीन परिणाम सामने आया और अब ग्राम पंचायत से विधान सभा की ओर ध्यान देने का वक्त आ गया है। उन्होंने विपक्षी पार्टियों को निशाना बनाते हुए कहा कि पूरे देश भर में जितनी भी राजनीतिक पार्टियाँ हैं, सभी परिवारवाद से ग्रस्त हैं जबकि हमारी पार्टी ही एक परिवार है. भारतीय जनता पार्टी की 18 करोड़ की सदस्यता यूं ही नहीं हो गई, यह सभी कार्यकर्ताओं के समग्र प्रयास के कारण ही संभव हो पाया है. कोई राजनीति दल चाह भी ले तो संभव ही नहीं कि वे 18 करोड़ सदस्यता बना लें. 

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पार्टी के सिद्धांत पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का विचार लेकर आगे बढ़ती रही है. पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी द्वारा प्रतिपादित एकात्म मानववाद, अंत्योदय और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के सिद्धांत को श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी और माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी सरकार ने आगे बढ़ाया है। पंडित दीनदयाल जी ने संपूर्णता में सोचने का काम किया। उनका कहना था कि जहां शरीर, मन, आत्मा, बुद्धि आत्मसात होकर आगे बढ़ते हैं, वहीं संपूर्णता में सुख की अनुभूति होती है। भारतीय जनता पार्टी आरम्भ से ही अन्त्योदय के सिद्धांत पर काम करती रही और उसी का विस्तार है सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा जितनी योजनायें बनती हैं वे सभी सबका साथ सबका विश्वास के मूलमंत्र को ध्यान में रखकर बनायी जाती है और इन्हीं नीतियों को आधार बनाते हुए जन-धन योजना, आयुष्मान भारत, उज्ज्वला योजना, सौभाग्य योजना, आवास योजना, स्वच्छ भारत अभियान एवं प्रधानमंत्री कृषि सम्मान निधि जैसी गरीब कल्याणकारी योजनायें बनीं। आयुष्मान योजना हो या उज्ज्वला योजना या फिर स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण किसी खास जाति या समुदाय विशेष के लिए नहीं बल्कि सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास के मूलमंत्र को ध्यान में रखकर बनायी गई हैं.  

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कोरोना से भारत की लड़ाई की चर्चा करते हुए कहा कि कोरोना के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुनिया को अपना मॉडल दिया है। इसका कारण उनका कुशल नेतृत्व है।  हमारे नेता दुनिया को सीख दे रहे हैं, इससे बड़ी खुशी की बात क्या होगी। अमेरिका सहित दुनिया के कई बड़े और शक्तिशाली देश सही समय पर सही निर्णय नहीं लेने के कारण कोरोना से लड़ने में असमर्थ हो गए लेकिन हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने सही समय पर निर्णायक और साहसी फैसला लेते हुए देश को सुरक्षित किया। लॉकडाउन लगने से पहले हमारी टेस्टिंग कैपिसिटी केवल 1,500 प्रति दिन की थी जबकि आज हमारी टेस्टिंग कैपिसिटी प्रतिदिन 10 लाख को पार कर गई है। देश में ढाई हजार से अधिक डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल बने। पहले जहां हम पीपीई किट के आयात पर निर्भर थे, वहीं आज प्रतिदिन लगभग पांच लाख पीपीई किट का उत्पादन भारत में हो रहा है। यह माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा उठाये गए साहसिक क़दमों का ही परिणाम है कि भारत में मोर्टलिटी रेट काफी कम है और रिकवरी रेट सबसे अधिक है। जहाँ अमेरिका, इटली, फ्रांस सहित पूरा यूरोप कोरोना के सामने आत्मसमर्पण कर चुके थे वहीं भारत ने दुनिया को कोविड को परास्त करने की राह दिखाई। आज विश्व के 16 देशों को भारत कोरोना वैक्सीन दे रहा है।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हेल्थ वर्कर्स को जितना मजबूत किया है उतना किसी अन्य सरकार ने नहीं किया. 

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कोविड संकट काल के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद मोदी जी ने डीबीटी के माध्यम से 20 करोड़ बहनों के खातों में पांच-पांच सौ रुपये की तीन किस्तों के रूप में 1500 रुपये उनके एकाउंट में भेजे तो बुजुर्गों, विधवाओं और दिव्यांगों को भी एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी गई। देश की 8 करोड़ से अधिक गरीब महिलाओं को लॉकडाउन के समय तीन महीने में तीन गैस सिलिंडर मुफ्त उपलब्ध करवाए गए। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी अपनी जान की परवाह न करते हुए लॉकडाउन की स्थिति में लगभग 25 करोड़ से अधिक लोगों तक फ़ूड पैकेट्स और राशन किट्स पहुंचाए। केंद्र सरकार, भाजपा की राज्य सरकारों और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इस संकट काल में हर जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 6 सालों में देश को 80 मेडिकल कॉलेज दिये है। हर संसदीय क्षेत्र में 2 मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं।

अटल टनल की चर्चा करते हुए श्री नड्डा ने कहा कि स्वर्गीय अटल जी ने दूर की सोचते हुए ‘अटल टनल’ का शिलान्यास किया था। बाद में जब वे एक बार मनाली आये थे तो उन्होंने कहा था कि अटल टनल के शिलान्यास का पत्थर उनके दिल पर पत्थर के रूप में गड़ा हुआ है। हम सबने कहा था कि अटल टनल तैयार होगा। कांग्रेस की यूपीए सरकार ने 10 वर्षों तक अटल टनल परियोजना को लटकाए रखी लेकिन जब श्री नरेन्द्र मोदी जी देश के प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने द्रुत गति से इस कार्य को आगे बढ़ाया और अटल टनल का शुभारंभ भी हुआ। अटल टनल आज रक्षा का भाग ही नहीं पर्यटन स्थल भी बन गयी है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सीमा पर 14000 किमी से ज्यादा लम्बी सड़कें बनाकर जिस प्रकार देश की सुरक्षा की है उससे देश की 130 करोड़ जनता का सीना गर्व से खिल उठता है जबकि यूपीए के समय उनके रक्षा मंत्री संसद में ये बयान देते नजर आये थे कि सीमा पर इन्फ्रास्ट्रकचर मजबूत करने की क्या आवश्यकता है.  

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने वोकल फॉर लोकल का जिक्र करते हुए कहा कि हिमाचल में बनी समग्री को अंतरराष्ट्रीय ब्रांड बनाने का काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कर रहे हैं। जल्द ही एक इंटरनेशनल बैठक होने वाली है जिसमें हिमाचल के उत्पाद विदेशी प्रतिनिधियों को दिए जाएंगे।  उन्होंने कहा कि आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का विशेष आशीर्वाद जिस तरह हिमाचल प्रदेश की जनता पर बना रहा है और इस देवभूमि से उनका जो विशेष स्नेह रहा है, उससे हमें पूर्ण विश्वास है कि उनके नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश विकास की नित नई कहानियां लिखता रहेगा। 

श्री नड्डा ने कहा कि श्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में प्रदेश की भाजपा सरकार ने विकास को नया आयाम दिया है। उन्होंने एक ओर आयुष्मान भारत के साथ-साथ हिमकेयर योजना की शुरुआत की जिससे कि प्रदेश के हर नागरिक को स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिल रहा है तो वहीं उन्होंने दूसरी ओर उज्ज्वला योजना के साथ-साथ गृहणी सुविधा योजना को शुरू किया जिससे कि महिलाओं को लकड़ी के धुएं से आजादी मिली। उन्होंने कहा कि हमारा आने वाला कल इस पर निर्भर करता है कि हम सब मिलकर अपने प्रदेश को कितना आगे ले कर जा सकते हैं। इसके लिए केंद्र और प्रदेश की कल्याणकारी योजनाओं को जन जन तक पहुँचाना अत्यंत आवश्यक है. उन्होंने उपस्थित कार्यकर्ताओं को आह्वान करते हुए कहा कि अभिमान में आकर सुस्त नहीं होना है। नए चुने प्रतिनिधि याद रखें कि अपने मतदाताओं की हमेशा इज्जत करें। राजनीति हमारे लिए सेवा का माध्यम हो सकता है निजी लाभ का लक्ष्य नहीं ।