पीएसएलवी-सी49 ने 10 उपग्रहों को सफलतापूर्वक कक्षा में किया स्थापित


पीएसएलवी-सी49 ने 7 नवंबर को 10 उपग्रहों को सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित कर एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की। इसमें भारत के नवीनतम भू-पर्यवेक्षण उपग्रह ईओएस-01 और नौ अन्य उपग्रह शामिल हैं। ईओएस-01 से कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन में मदद मिलेगी। प्रक्षेपित उपग्रहों में लिथुआनिया (1), लक्जमबर्ग (4) और अमेरिका (4) के उपग्रह शामिल थे।

मिशन की सफलता के बाद इसरो चेयरमैन श्री के. सिवन ने कहा कि यह स्पेस एजेंसी के लिए बहुत ही खास और असाधारण मिशन था।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और भारतीय अंतरिक्ष उद्योग को पीएसएलवी-सी49/ईओएस-01 के सफलतापूर्वक प्रक्षेपण के लिए बधाई दी।

प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में 7 नवंबर को कहा कि मैं इसरो और भारतीय अंतरिक्ष उद्योग को पीएसएलवी-सी49/ईओएस-01 मिशन के आज सफलतापूर्वक प्रक्षेपण के लिए बधाई देता हूं।

कोविड-19 के दौर में वैज्ञानिकों ने सभी चुनौतियों का सामना करते हुए समय-सीमा का पालन किया है। इस मिशन में नौ सेटेलाइट को भी लांच किया गया है, जिसमें अमेरिका और लक्जमबर्ग के 4 और लिथुआनिया का एक सेटेलाइट भी शामिल हैं।

उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण पर भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने ट्वीट कर कहा कि ईओएस-01 समेत अन्य राष्ट्रों के 9 उपग्रहों को ले जाने वाले पीएसएलवी-सी49 के सफल प्रक्षेपण के लिए इसरो को बधाई। यह अद्भुत उपलब्धि आत्मनिर्भरता की दिशा में एक बड़ा कदम है और इस कठिन समय में भारत की वैज्ञानिक उपलब्धियों की निरंतरता को दर्शाता है।