नहीं रहे जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल जगमोहन


पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल रहे श्री जगमोहन का तीन मई को दिल्ली में निधन हो गया। वह 93 वर्ष के थे और पिछले कुछ समय से बीमार थे। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री जगमोहन दिल्ली और गोवा के उपराज्यपाल भी रहे।
श्री जगमोहन ने बतौर नौकरशाह अपने करियर की शुरुआत की थी और उन्हें सख्त और कुशल प्रशासक के रूप में देखा जाता था। वर्ष 1984 व 1990 में उन्हें जम्मू एवं कश्मीर का राज्यपाल नियुक्त किया गया।
बाद में श्री जगमोहन भाजपा में शामिल हो गए। उन्होंने संसद में तीन बार नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। उन्हें एक बार राज्यसभा के लिए भी मनोनीत किया गया।
पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री के रूप में काम करते हुए उन्होंने बहुत ख्याति अर्जित की और अपनी विशिष्ट पहचान स्थापित की। वाजपेयी सरकार में वह केन्द्रीय संचार, शहरी विकास, पर्यटन और संस्कृति मंत्री भी रहे।
उन्हें वर्ष 1971 में पद्मश्री, 1977 में पद्म भूषण और 2016 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने श्री जगमोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया। एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा कि जगमोहन जी का निधन राष्ट्र की अपूर्णीय क्षति है। वे कुशल प्रशासक और प्रसिद्ध विद्वान थे। उन्होंने हमेशा देश की बेहतरी के लिये काम किया। मंत्री के रूप में उनका कार्यकाल नीति निर्धारण में उनकी नई सोच के लिये जाना जायेगा। उनके परिजनों और प्रशंसकों के लिये गहरी संवेदना।
भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने ट्वीट कर अपने शोक संदेश में कहा कि जगमोहन जी एक बेहतरीन प्रशासक और एक प्रतिष्ठित विद्वान थे। उन्होंने केंद्रीय मंत्री, दिल्ली और गोवा के उपराज्यपाल और जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के रूप में कार्य किया। उनका निधन राष्ट्र के लिए एक बड़ी क्षति है। उनके निधन से दुःख हुआ। उनके परिवार व प्रशंसकों के प्रति संवेदनाएं।
केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने भी उनके निधन पर शोक जताया और कहा कि जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल को हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि जगमोहन जी एक कुशल प्रशासक थे और बाद में एक समर्पित राजनीतिज्ञ के रूप में उन्होंने देश में शांति और प्रगति के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। देश आज उनके निधन से दु:खी है। उनके परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और लोकसभा अध्यक्ष ने शोक व्यक्त किया
राष्ट्रपति भवन ने श्री रामनाथ कोविंद के हवाले से ट्वीट में कहा कि जगमोहन जी के निधन से देश ने एक अद्भुत शहरी योजनाकार, सक्षम प्रशासक और विद्वान खो दिया। उनका प्रशासनिक एवं राजनीतिक करियर अतुलनीय प्रतिभा से युक्त था। राष्ट्रपति ने कहा कि उनके निधन से एक शून्य पैदा हुआ है जिसे हमेशा महसूस किया जायेगा। उनके परिवार एवं मित्रों को मेरी संवेदनाएं।
उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने एक ट्वीट में कहा कि जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल के रूप में उनके अतुलनीय योगदान को हमेशा याद किया जाएगा। उनके निधन से देश ने एक कुशल प्रशासक को खो दिया।
लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिरला ने कहा कि जगमोहन का निधन देश के लिए एक अपूर्णीय क्षति है। उन्होंने कहा कि ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें व परिजनों को इस आघात को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।