दो दशक की अनथक यात्रा

Published on:

क यात्रा जो 7 अक्तूबर, 2001 को शुरू हुई थी, उसने देश को प्रेरित करते हुए, लोगों का आत्मविश्वास बढ़ाते हुए, सबको साथ लेते हुए, उपलब्धियों का अंबार लगाते हुए, हर भारतीय को भारतीय होने का गौरव अनुभव कराते हुए, 7 अक्तूबर, 2021 को 20 वर्ष पूर्ण कर लिए। अथक साधना, गतिशीलता एवं करिश्माई कार्य, विकट परिस्थितियों में अदम्य, चुनौतियों के सामने अडिग तथा स्वयं का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए सामने से नेतृत्व करने की जिजीविषा ने इन 20 वर्षों में पूरे देश को चमत्कृत किया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे, तब से ही जन-जन के हृदय पर राज कर रहे हैं और आज पूरे विश्व में प्रधानमंत्री के रूप में देश को गौरवान्वित कर रहे हैं। एक निःस्वार्थ नेतृत्व के रूप में जो गरीब, वंचित, पिछड़े, दलित, शोषित, युवा एवं महिला के कल्याण के लिए समर्पित हैं, उन्होंने असाधारण सेवा, पूर्ण समर्पण एवं अद्भुत दायित्वबोध से देश के राजनैतिक प्रतिमानों को बदलकर रख दिया है। आज जब राष्ट्र का आत्मविश्वास जग गया है, जन-जन की अपेक्षा ऐसे नेतृत्व से और भी अधिक बढ़ती जा रही है और दूसरी ओर श्री नरेन्द्र मोदी अपनी प्रेरणादायी दृष्टि एवं हर स्तर पर सुदृढ़ राजनैतिक इच्छाशक्ति एवं कार्यकुशलता का परिचय देते हुए हर बार अपेक्षाओं से आगे बढ़कर देश का गौरव बढ़ा रहे हैं।

कोविड-19 महामारी के पश्चात् विश्व के बदलते समीकरणों के बीच प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के अत्यंत सफल अमेरिका प्रवास का पूरे देश में भारी स्वागत हुआ है। संयुक्त राष्ट्र संघ को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड-19 महामारी की चुनौतियों, आतंकवाद एवं जलवायु परिवर्तन से जुड़े विषयों को उठाया। भारत सरकार की उपलब्धियों को बताते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी अफगानिस्तान समस्या, कोविड की शुरुआत, ईज आॅफ डूईंग बिजनेस एवं अन्य वैश्विक संस्थाओं से जुड़े विषयों पर संयुक्त राष्ट्र संघ पर उठ रहे प्रश्नों पर गंभीर चिंता व्यक्त की। वहां वे एक ऐसे नेता के रूप में उभरे, जिन्होंने गंभीर विषयों पर दो टूक बात की तथा संयुक्त राष्ट्र की विश्वसनीयता एवं प्रासंगिकता बढ़ाने के लिए इसे और अधिक प्रभावी बनाने पर बल दिया। वैश्विक व्यवस्था, वैश्विक कानून एवं वैश्विक मूल्यों तथा दशकों की कड़ी मेहनत से बने वैश्विक संस्थानों की प्रतिष्ठा बचाने के लिए उन्होंने संयुक्त राष्ट्र को निरंतर सुदृढ़ बनाने का आह्वान किया।

एक ओर जहां प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने विश्वभर के लोगों की चिंता संयुक्त राष्ट्र संघ में उठाई, वहीं दूसरी ओर ‘क्वाड’ के सदस्यों एवं काॅरपोरेट क्षेत्र के महत्वपूर्ण व्यक्तित्यों से उनकी सकारात्मक बैठकें हुईं। इन बैठकों के परिणामस्वरूप कोविड-19 प्रबंधन, स्वास्थ्य, अवसंरचना तथा अक्षय ऊर्जा एवं क्लीन-हाइड्रोजन भागीदारी के क्षेत्र में ‘क्वाड’ देशों की क्षमता में गुणात्मक परिवर्तन होंगे। ‘क्वाड’ देशों ने शिक्षा के क्षेत्र में जन-से-जन संपर्क, आवश्यक एवं उभरती हुई तकनीक, साइबर सुरक्षा तथा बाहरी अंतरिक्ष में सहयोग पर भी सहमत हुए हैं। इस प्रकार की भागीदारी से जहां ‘क्वाड’ देशों को परस्पर लाभ होगा, वहीं विभिन्न क्षेत्रों में भारत की शक्ति में व्यापक विस्तार होगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के अमेरिका प्रवास के बाद भारत आगमन पर जहां जनता ने एयरपोर्ट पर उनका भारी स्वागत एवं अभिनंदन किया, वहीं उनके जन्मदिन से लेकर शासन के प्रमुख के रूप में 20 वर्षों की उनकी यात्रा पूर्ण होने तक देशभर में ‘सेवा और समर्पण’ अभियान चला। इस अभियान के अंतर्गत भाजपा कार्यकर्ताओं ने हजारों ‘सेवा कार्य’ के माध्यम से करोड़ों देशवासियों की सेवा की। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दूरदृष्टियुक्त एवं करिश्माई नेतृत्व में 20 वर्षों की इस यात्रा ने अनेक अद्भुत उपलब्धियों का साक्षात्कार किया, जिससे पूरे देश में एक नया आत्मविश्वास जगा है। आज जब पूरा विश्व भारत की उपलब्धियों से चमत्कृत है, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सुदृढ़ नेतृत्व में पूरा देश निरंतर नए विचारों, दृष्टि एवं प्रतिबद्धता से प्रेरित होते हुए नित नई ऊंचाई प्राप्त कर रहा है।

    shivshaktibakshi@kamalsandesh.org