पार्टी और जनता के बीच आस्था का सेतु बनें : प्रधानमंत्री मोदी

Published on:

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 07 नवंबर, 2021 को नई दिल्ली में एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर में भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समापन सत्र में समापन भाषण दिया। बैठक के समापन के बाद केंद्रीय मंत्री श्री भूपेंद्र यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री के भाषण की प्रमुख बातों को रखा। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री ने समाज की सेवा के लिए कार्यकर्ताओं की प्रशंसा की, उनका मार्गदर्शन किया और भाजपा के महत्वाकांक्षी ‘सेवा ही संगठन’ अभियान पर विस्तार से बात की।” प्रस्तुत है इस भाषण के प्रमुख अंश :

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जोर देकर कहा कि भाजपा सेवा, संकल्प और समर्पण के मूल्यों पर चलती है। श्री मोदी ने कहा कि पार्टी आज जहां है, इसलिए है, क्योंकि यह किसी परिवार के इर्द-गिर्द केंद्रित नहीं है बल्कि लोगों के कल्याण के लिए काम करने पर केंद्रित है। उन्होंने कहा कि पार्टी के मूल्य वादों को पूरा करने और जनता के लिए समर्पण के साथ काम करने में निहित हैं। पार्टी इस मुकाम तक इसलिए पहुंची है क्योंकि वह हमेशा से आम आदमी से जुड़ी रही है। भाजपा किसी परिवार के इर्द-गिर्द केंद्रित नहीं है। इसके मूल्य ‘सेवा, संकल्प, समर्पण’ हैं।

पार्टी कार्यकर्ताओं को आम आदमी और पार्टी के बीच आस्था का सेतु बनना चाहिए, क्योंकि हमारी पार्टी हमेशा से देश के आम आदमी से जुड़े मुद्दों को उठाती रही है

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि वे पार्टी और आम आदमी के बीच आस्था का सेतु बनकर काम करें। पार्टी के इतिहास का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं को आम आदमी और पार्टी के बीच आस्था का सेतु बनना चाहिए, क्योंकि हमारी पार्टी हमेशा से देश के आम आदमी से जुड़े मुद्दों को उठाती रही है।

महामारी के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए कल्याण कार्यों का उल्लेख करते हुए श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भाजपा ने लोगों की सेवा करने पर अपना ध्यान केंद्रित किया है।

चुनावी राज्यों के बारे में बात करते हुए उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि पार्टी लोगों का विश्वास जीतेगी क्योंकि यह लोगों के करीब के मुद्दों को उठाकर आगे बढ़ रही है। प्रधानमंत्री ने नमो ऐप पर शुरू की गई ‘कमल पुष्प’ पहल के बारे में भी बताया। यह ऐप उन पार्टी कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि देने के लिए बनाया गया है, जिन्होंने अपना पूरा जीवन पार्टी के लिए समर्पित कर दिया। श्री मोदी ने भाजपा के महत्वाकांक्षी ‘सेवा ही संगठन’ अभियान पर भी विस्तार से बात की। उन्होंने कहा कि दुनिया आज भारत की तारीफ कर रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, “यह मोदी कहे जाने वाले किसी व्यक्ति के कारण नहीं है, बल्कि लोगों की इच्छा और विश्वास और उनके अपने आप में विश्वास के कारण है।”

श्री मोदी ने कहा, “जनता के बीच रहें। उनके संपर्क में रहें और उन लोगों के साथ आत्मीयता रखें जिन्हें आप जानते हैं।” प्रधानमंत्री ने समाज की सेवा करने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं की सराहना की। उन्होंने कहा कि चुनाव वाले राज्यों को जीतने में प्रदेश अध्यक्षों का विश्वास उनके द्वारा समाज में किए गए कार्यों से आता है। श्री मोदी ने कहा कि जब मैं चुनाव में जाने वाले पांच राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों और मुख्यमंत्रियों को सुन रहा था, तो मैंने महसूस किया कि उनका यह विश्वास पिछले पांच वर्षों में अपने राज्यों के लिए किए गए कार्यों की संतुष्टि से प्राप्त हुआ है। यह सेवा की सुंदरता है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि जो लोग पार्टी की स्थापना के बाद से उसके साथ थे, उन्हें सम्मानित करने की जरूरत है। सेवा ही सर्वोच्च पूजा है। भाजपा के कार्यकर्ताओं ने सेवा की एक नई संस्कृति का प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा कि ‘सेवा ही संगठन’ ने कठिन समय में देश की सेवा की है।

पार्टी के इतिहास को रेखांकित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि भाजपा को आज जो स्थान मिला है, वह इसलिए है क्योंकि पार्टी अपने शुरुआती दिनों से ही जनता से जुड़ी रही है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने यह भी कहा कि पार्टी को उन सभी का सम्मान करने की जरूरत है जो स्थापना के बाद से हमारे साथ थे, भले ही ये कार्यकर्ता चले गए हों, उन्होंने पार्टी के विकास के लिए जो काम किया उसका उल्लेख किया जाना चाहिए।