नई ऊर्जा, उत्साह एवं विश्वास का संचार

Published on:

मोदी सरकार- 2.0 मंत्रिपरिषद विस्तार से पूरे राष्ट्र में निस्संदेह नई ऊर्जा, उत्साह एवं विश्वास का संचार हुआ है। मोदी सरकार- 2.0 मंत्रिपरिषद में 43 नए चेहरे के शामिल होने से कोविड-19 महामारी की चुनौतियों से लड़ने के नए संकल्प के साथ देश पूरे आत्मविश्वास से आगे बढ़ रहा है। इस समावेशी मंत्रिपरिषद में 2 कैबिनेट मंत्रियों समेत 11 महिला मंत्रियों का शामिल होना प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की शासन में ‘नारी शक्ति’ की भागीदारी सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता दर्शाता है। एक ओर जहां मंत्रिपरिषद की औसत आयु 58 वर्ष है, दूसरी ओर छह कैबिनेट मंत्री समेत 14 मंत्री 50 वर्ष से कम उम्र के हैं। विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व कर रहे मंत्रिपरिषद में 13 अधिवक्ता, छह डॉक्टर, पांच इंजीनियर, सात प्रशासनिक अधिकारी, सात पीएचडी एवं तीन एमबीए हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के करिश्माई एवं सुदृढ़ नेतृत्व में यह युवा, समावेशी एवं ‘नारी शक्ति’ से युक्त मंत्रिपरिषद पूरे देश को अवश्य नई ऊंचाइयां देगा।
एक अत्यंत महत्वपूर्ण निर्णय में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट ने 23,123 करोड़ रुपए का ‘भारत कोविड-19 आपात प्रतिक्रिया और स्वास्थ्य प्रणाली, चरण-2’’ को स्वीकृति दे दी है। इस स्वास्थ्य अवसंरचना का तेजी से विकास होगा तथा बाल चिकित्सा के साथ-साथ बचाव, शुरुआती रोकथाम एवं स्वास्थ्य प्रबंधन व्यवस्था सुदृढ़ होगी। इससे देश कोविड-19 या अन्य महामारी से उभरने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए और भी अधिक मजबूती से तैयार होगा। मोदी सरकार किसानों की आय दुगुनी करने के लिए शुरू से ही प्रतिबद्ध है। इस दिशा में अनेक ऐतिहासिक निर्णय लिए गए हैं जिसके सकारात्मक परिणाम अब सामने आने लगे हैं। एक अन्य महत्वपूर्ण निर्णय में, कैबिनेट ने कृषि अवसंरचना निधि के अंतर्गत वित्तीय नियमों में आवश्यक परिवर्तन कर कृषि क्षेत्र में भारी निवेश के द्वार खोल दिए हैं जिसका सबसे अधिक लाभ सीमांत किसानों को मिलेगा। इससे उपज के बाद के प्रबंधन के लिए व्यापक ‘इकोसिस्टम’ का निर्माण संभव हो सकेगा।
विश्व का सबसे बड़ा एवं तेज गति से चल रहा निःशुल्क टीकाकरण अभियान हर दिन नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। अब जबकि टीकाकरण अभियान के 175 दिन पूरे हो गए हैं, 9 जुलाई, 2021 तक 37 करोड़ टीका लगाया जा चुका है। यह अभियान दिनोंदिन तेज होता जा रहा है तथा आठ प्रदेशों में 18-44 आयु वर्ग के 50 लाख से अधिक लोगों को टीका लग चुका है। ध्यान देने योग्य है कि मोदी सरकार पूर्व में 45+ आयु वर्ग के लोगों को टीका देने का दायित्व निर्वहन कर रही थी तथा 18-44 आयु वर्ग के टीके का दायित्व प्रदेशों के पास था। जहां भाजपा शासित राज्य सरकारें लोगों को निःशुल्क टीका देने को प्रतिबद्ध थीं, वहीं कुछ अन्य राज्य टीका उपलब्ध करने में अपनी असमर्थता व्यक्त कर रहे थे। परिणामतः, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 18-44 आयुवर्ग के भी टीके का दायित्व अपने कंधों पर ले लिया और 21 जून 2021 से इस टीकाकरण अभियान का शुभारंभ किया। अब देश के हर कोने में लोग आश्वस्त हैं कि सबका टीकाकरण होगा और निःशुल्क होगा।
पूरा राष्ट्र कोविड-19 महामारी से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सशक्त नेतृत्व में एकजुट होकर विभिन्न मोर्चो पर लड़ रहा है। एक ओर जहां इस महामारी ने विश्व के अनेक विकसित देशों को भी बुरी तरह से प्रभावित किया है, भारत में जन-जन ने अदम्य धैर्य एवं साहस का परिचय देते हुए इसे नियंत्रित करने के प्रयास किए हैं। ऐसे कठिन दौर में कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष के एक वर्ग ने देश में भय एवं आशंका के वातावरण का निर्माण करने का कुप्रयास किया। यह अत्यंत दुर्भाग्यजनक है कि कांग्रेस के लिए लोगों के जीवन से ऊपर राजनीति रही है। आज जबकि पूरा राष्ट्र महामारी से एकजुट होकर लड़ रहा है, मंत्रिपरिषद विस्तार सरकार को नई गतिशीलता, निश्चित दिशा एवं ऊर्जा देगा।

shivshaktibakshi@kamalsandesh.org