जेएनपीटी ने वित्त वर्ष 2021-22 की पहली छमाही में कंटेनर यातायात में 40.40 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की

Published on:

भारत के प्रमुख कंटेनर बंदरगाहों में से एक, जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) ने इस वित्तीय वर्ष की पहली छमाही के दौरान 1,925,284 टीईयू के मुकाबले 2,703,051 टीईयू का संचालन किया है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि में कंटेनर यातायात से 40.40 प्रतिशत अधिक की वृद्धि है। वित्त वर्ष 2021-22 की पहली छमाही में रेल गुणांक 18.04% था। सितंबर, 2021 में कुल कंटेनर ट्रैफिक 452,108 टीईयू था, जो पिछले साल के इसी महीने की तुलना में 18.86% की वृद्धि को दर्शाता है। एनएसआईजीटी ने सितंबर-2021 में 1,00,814 टीईयू को प्रबंधन कर एक महीने में 1 लाख टीईयू का आंकड़ा पार किया, जो अपनी स्थापना के बाद से अब तक का सबसे अधिक टीईयू है।

अर्ध-वार्षिक प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए, जेएनपीटी के अध्यक्ष श्री संजय सेठी ने कहा, बंदरगाह यह सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न उपाय कर रहा है कि बंदरगाह तकनीकी रूप से उन्नत वैश्विक बंदरगाहों के बराबरी करे। जेएनपीटी से हाल ही में ड्वार्फ कंटेनर ट्रेन सेवाओं को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया है, जो डबल-स्टैक्ड ड्वार्फ कंटेनरों के माध्यम से एक्जिम कार्गो की रेल आवाजाही को सुव्यवस्थित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह जेएनपीटी पर रेल-कार्गो यातायात को बढ़ाने के साथ-साथ आंतरिक साजो-सामान की लागत को कम करके एक्जिम समुदाय को प्रतिस्पर्धी लागत लाभ प्रदान करेगा।

जेएनपीटी ने लगातार समुद्री व्यापार और रसद क्षेत्र के लिए नई राह निकालने का प्रयास किया है। साथ ही भारत के विकास की कहानी को आगे बढ़ाने के लिए लगातार नए रास्ते खोल रहा है। नवनिर्मित तटीय बर्थ (जहाज ठहरने का स्थान) तटीय कार्गो आवाजाही को बढ़ावा देगा और तटीय नौवहन के लिए बेहतर बुनियादी ढांचा प्रदान करेगा और लागत-प्रतिस्पर्धी और प्रभावी मल्टी-मॉडल परिवहन समाधान सुनिश्चित करते हुए रेल और सड़क नेटवर्क को कम करेगा। इसके अलावा, जेएनपीटी ने बंदरगाह आधारित औद्योगीकरण को बढ़ावा देने के लिए जेएनपीटी सेज में 9 भूखंडों के सफल बोलीदाताओं को आशय पत्र सौंपा है। जेएनपीटी एसईजेड भारत को एक विनिर्माण केंद्र बनाने के लिए और अधिक अग्रणी वैश्विक कंपनियों को आकर्षित करने के लिए तैयार है क्योंकि जेएनपीटी एसईजेड में बुनियादी ढांचे का विकास अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क के अनुसार है। जेएनपी-सीपीपी ऐप को सीपीपी ऑपरेशन के लाइव डेटा तक पहुंच प्रदान करने और आपूर्ति श्रृंखला में वास्तविक समय की जानकारी मुहैया कराने के लिए लॉन्च किया गया था।