दीनदयालजी के आदर्श को लेकर देश आत्मनिर्भरता के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है : नरेन्द्र मोदी


एकात्म मानववाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की पुण्यतिथि ‘समर्पण दिवस’ पर 11 फरवरी, 2021 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने नई दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया और उनसे पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के आदर्शों एवं उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने का आह्वान किया।

श्री मोदी ने कहा कि हम जैसे-जैसे दीनदयाल जी के बारे में सोचते हैं, बोलते हैं, सुनते हैं, हर बार उनके विचारों में हमें एक नवीनता का अनुभव होता है। ‘एकात्म मानव दर्शन’का उनका विचार मानव मात्र के लिए था। इसलिए जहां भी मानवता की सेवा का प्रश्न होगा, मानवता के कल्याण की बात होगी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के एकात्म मानव दर्शन का सिद्धांत सदैव प्रासंगिक रहेगा। हमारे यहां कहा जाता है कि “स्वदेशे पूज्यते राजा, विद्वान सर्वत्र पूज्यते” अर्थात्, सत्ता की ताकत से आपको सीमित सम्मान ही मिल सकता है। जहां सत्ता की ताकत प्रभावी होगी वहीं सम्मान मिलेगा लेकिन विद्वान का सम्मान हर जगह होता है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी इस विचार के साक्षात उदाहरण हैं।

श्री मोदी ने कहा कि एक ओर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी भारतीय राजनीति में एक नए विचार को लेकर आगे बढ़ रहे थे, वहीं दूसरी ओर, वे हर एक पार्टी, हर एक विचारधारा के नेताओं के साथ भी उतने ही सहज रहते थे। हर किसी से उनके आत्मीय संबंध थे। सामाजिक जीवन में एक नेता को कैसा होना चाहिए, भारत के लोकतंत्र और मूल्यों को कैसे जीना चाहिए, पंडित दीनदयाल जी इसके भी बहुत बड़े उदाहरण हैं। हमारे शास्त्रों में कहा गया है- ‘स्वदेशो भुवनम् त्रयम्’ अर्थात्, अपना देश ही हमारे लिए सब कुछ है, तीनों लोकों के बराबर है। जब हमारा देश समर्थ होगा, तभी तो हम दुनिया की सेवा कर पाएंगे। एकात्म मानव दर्शन को सार्थक कर पाएंगे। पंडित दीनदयाल जी भी यही कहते थे। उन्होंने लिखा है—“एक सबल राष्ट्र ही विश्व को योगदान दे सकता है।” यही संकल्प आज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की मूल अवधारणा है। इसी आदर्श को लेकर ही देश आत्मनिर्भरता के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है।

श्री मोदी ने कहा कि कोरोना काल में देश ने अंत्योदय की भावना को सामने रखा और अंतिम पायदान पर खड़े हर गरीब की चिंता की। आत्मनिर्भरता की शक्ति से देश ने एकात्म मानव दर्शन को भी सिद्ध किया, पूरी दुनिया को दवाएं पहुंचाई और आज हम वैक्सीन पहुंचा रहे हैं। पंडित दीनदयाल जी के इस विज़न को लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए भारत आगे बढ़ रहा है। आज भारत में डिफेंस कॉरिडॉर बन रहे हैं, स्वदेशी हथियार बन रहे हैं और तेजस जैसे फाइटर जेट्स भी बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि 1965 में भारत-पाक युद्ध के दौरान भारत को विदेशों से हथियारों पर निर्भर होना पड़ा था। पंडित दीनदयाल जी कहते थे कि हमें सिर्फ खाद्यान्न में ही नहीं बल्कि हथियार और विचार के क्षेत्र में भी भारत को आत्मनिर्भर बनाना होगा। हथियार के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता से अगर भारत की ताकत और भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत हो रही है तो विचार की आत्मनिर्भरता से भारत आज दुनिया के कई क्षेत्रों में नेतृत्व दे रहा है।

श्री मोदी ने कहा कि आज भारत की विदेश नीति दबाव और प्रभाव से मुक्त होकर, राष्ट्र प्रथम के नियम से चल रही है। लोकल इकॉनमी पर पंडित दीनदयाल जी का विज़न इस बात का प्रमाण है कि उस दौर में भी उनकी सोच कितनी व्यावहारिक और कितनी व्यापक थी। आज ‘वोकल फॉर लोकल’ के मंत्र से देश इसी विज़न को साकार कर रहा है। आज आत्मनिर्भर भारत अभियान देश के गांव-गरीब, किसान, मजदूर और मध्यम वर्ग के भविष्य निर्माण का माध्यम बन रहा है। हमें गर्व होता है कि हम अपने महापुरुषों के सपनों को पूरा कर रहे हैं। हमें गर्व है कि हमारी विचारधारा देशभक्ति को ही अपना सब कुछ मानती है। हमारी विचारधारा राष्ट्र प्रथम की बात करती है।