नहीं रहे न्यायमूर्ति एम. रामा जॉयस


                                (27 जुलाई, 1931 – 16 फरवरी, 2021)

प्रख्यात कानूनविद, बिहार और झारखंड के पूर्व राज्यपाल न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एम. रामा जॉयस का 16 फरवरी को निधन हो गया। वह 89 वर्ष के थे। लेखक और इतिहासकार श्री जॉइस लंबे समय से उम्र संबंधी बीमारियों से ग्रस्त थे एवं हृदयगति रुकने से उनकी मौत हुई। श्री जॉयस के निधन पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा, केंद्रीय गृहमंत्री श्री अमित शाह, केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण, कर्नाटक के मुख्यमंत्री श्री बीएस येदियुरप्पा समेत कई जाने-माने व्यक्तियों ने दु:ख व्यक्त किया।

न्यायाधीश एम. रामा जॉयस का जन्म 27 जुलाई, 1931 को कर्नाटक के शिमोगा जिले में हुआ था। उन्होंने बेंगलुरु के एक कॉलेज से कानून की डिग्री हासिल की थी। उन्हें 1977 में कर्नाटक उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया। बाद में उन्हें 1992 में पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया।

सेवानिवृत्त हाने के बाद न्यायमूर्ति जॉयस 2002-2003 तक झारखंड के राज्यपाल तथा 2003-2004 तक बिहार के राज्यपाल नियुक्त किए गए। वे राज्य सभा के लिए भी निर्वाचित हुए। वह एक प्रसिद्ध लेखक भी थे, जिन्होंने ‘द लीगल एंड कांस्टीट्यूशनल हिस्ट्री ऑफ इंडिया’ जैसी किताबें भी लिखीं।

                                                    शोक संदेश

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने न्यायाधीश (सेवानिवृत्त) एम. रामा जॉयस के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया। एक ट्वीट में श्री मोदी ने कहा कि न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एम. रामा जॉयस एक उत्कृष्ट बुद्धिजीवी और न्यायविद् थे। भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूत बनाने की दिशा में उनकी कुशाग्र बुद्धि और योगदान की हमेशा सराहना की गई। उनके निधन से दु:खी हूं। इस दु:ख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति।

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने अपने शोक संदेश में कहा कि न्यायाधीश एम. रामा जॉयस का निधन समाज के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है। उन्होंने राष्ट्र के लिए नि:स्वार्थ भाव से सेवा की और न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायी क्षेत्रों पर अपनी गहरी छाप छोड़ी। उनके परिवार, दोस्तों और समर्थकों के प्रति संवेदना। ओम शांति।

केंद्रीय गृहमंत्री श्री अमित शाह ने एक ट्वीट कर कहा कि एक प्रसिद्ध न्यायविद और बिहार तथा झारखंड के पूर्व राज्यपाल, जस्टिस एम. रामा जॉयस जी के निधन पर मेरी संवेदना। उन्होंने भारतीय न्यायपालिका में उल्लेखनीय योगदान दिया। 1975 में आपातकाल के दौरान लोकतंत्र बहाल करने की उनकी कोशिशों के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। ओम शांति।

केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने कहा कि उनकी किताब ‘द लीगल एंड कांस्टीट्यूशनल हिस्ट्री ऑफ इंडिया’ अहम दस्तावेज है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री श्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि वह कानून के क्षेत्र के जाने-माने व्यक्ति थे, जिनके विचार विधि एवं संविधान पर लिखी उनकी किताबों में प्रतिबिंबित होते हैं।