‘मन की बात’ कार्यक्रम देश को दिशा और दृष्टि देने के साथ-साथ देश के नागरिकों से संवाद का अनोखा प्रयास है: जगत प्रकाश नड्डा

Published on:

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा जी ने आज रविवार को दिल्ली के वसंत विहार मंडल की बूथ संख्या तीन के अंतर्गत राम मंदिर पार्क (मोती बाग गुरुद्वारा के नजदीक) में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रसिद्ध कार्यक्रम ‘मन की बात’ के 83वें संस्करण को सुना। इस कार्यक्रम में उनके साथ-साथ पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं दिल्ली प्रदेश के प्रभारी श्री बैजयंत जय पांडा, दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष श्री आदेश गुप्ता, केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एवं सांसद श्रीमती मीनाक्षी लेखी, भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख एवं राज्य सभा सांसद श्री अनिल बलूनी और पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया सह-प्रमुख डॉ संजय मयूख सहित दिल्ली प्रदेश भाजपा के कई वरिष्ठ पदाधिकारी और बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता भी उपस्थित थे। इससे पहले भी उन्होंने जून में भी दिल्ली के ईस्ट पटेल नगर में बूथ संख्या 143 पर मन की बात कार्यक्रम को सुना था। 

‘मन की बात’ कार्यक्रम को सुनने के पश्चात् माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का ‘मन की बात’ कार्यक्रम देश को दिशा और दृष्टि देने के साथ-साथ देश के नागरिकों से संवाद का अनोखा प्रयास है। यह कार्यक्रम 03 अक्टूबर 2014 को शुरू हुआ था। ख़ूबसूरती इस कार्यक्रम की ऐसी है कि इस कार्यक्रम में आज तक उन्होंने कभी कोई राजनीति की बात नहीं की और न ही राजनीतिक उद्देश्यों के लिए उन्होंने इस मंच का कभी उपयोग किया है। 83 एपिसोड तक मन की बात का तारतम्य बनाये रखना, इसे प्रभावी और इसको सुनने के लिए देश के नागरिकों के मन में लालसा बनाए रखा – ये कोई छोटी बात नहीं है। देश और समाज को एक कार्यक्रम के माध्यम से एक सूत्र में कैसे पिरोया जा सकता है, इसका एक उत्कृष्ट उदाहरण है मन की बात कार्यक्रम।

श्री नड्डा ने कहा कि आज माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने मन की बात कार्यक्रम में सांस्कृतिक विषयों पर चर्चा की है। इस कार्यक्रम के माध्यम से उन्होंने भारत के संस्कार और भारतवर्ष की संस्कृति को दुनिया के कोने-कोने में पहुंचाया है और देश से बाहर एवं देश के अंदर प्रस्फुटित हो रहे भारत के सांस्कृतिक उत्थान की गतिविधियों से देशवासियों को रू-ब-रू कराया है। आज उन्होंने ऊना, हिमाचल प्रदेश के मिनिएचर राइटर राम कुमार जोशी जी का जिक्र किया कि वे किस तरह से पोस्टेज स्टांप पर उन्होंने महापुरुषों की जीवनी को उकेरा है और उनके स्केच बनाए हैं। उन्होंने इस कार्यक्रम के माध्यम से देश के 130 करोड़ नागरिकों को पूर्वोत्तर के राज्यों की संस्कृति, सोच एवं जीवन से परिचय कराया है। आज देशवासियों को भी ऐसा प्रतीत हो रहा है कि हमारे प्रधानमंत्री ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने जम्मू-कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक और कच्छ से लेकर पूर्वोत्तर, हर जगह की संस्कृति से उनका परिचय कराया है। उन्होंने इस कार्यक्रम के माध्यम से हमें अलग-अलग क्षेत्रों के त्यौहारों से भी परिचित कराया है। कितनी विविधताओं से भरा देश है हमारा। एक ही दिन देश के अलग-अलग भागों में अलग-अलग तरीके से त्यौहार मनाये जाते हैं।

माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आदरणीय प्रधानमंत्री जी मन की बात कार्यक्रम के जरिये महापुरुषों के बारे में भी समय-समय पर चर्चा करते हैं। आज उन्होंने देशरत्न बाबा साहब भीमराव अंबेडकर जी के बारे में बताया। अभी 26 नवंबर को ही उन्होंने संसद में संविधान दिवस मनाया। उन्होंने उनके महापरिनिर्वाण दिवस पर भी चर्चा की। वे पर्यावरण, क्लाइमेट चेंज के बारे में भी चर्चा करते हैं और हमें सचेत करते हैं। ग्लासगो समिट में भारत के कमिटमेंट को जिस ताकत के साथ रखा है, वह पर्यावरण संवर्धन के बारे में भारत की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। महिला सशक्तिकरण के बारे में उन्होंने चर्चा की। सेल्फ हेल्प ग्रुप्स के बारे में उन्होंने चर्चा की और किस तरह गाँवों में महिलायें सरकार की योजनाओं से लाभ लेते हुए देश के आर्थिक उत्थान में महत्वपूर्ण योगदान दे रही हैं, इस पर भी वे उनसे बात करते हैं एवं उनकी उपलब्धियों को देशवासियों से साझा करते हैं ताकि दूसरे जगह भी इन घटनाओं से प्रेरणा लेते हुए लोग आगे बढ़ें।

श्री नड्डा ने कहा कि आज माननीय प्रधानमंत्री जी ने आयुष्मान भारत की चर्चा की कि किस तरह इस योजना के माध्यम से लोगों का जीवन संवर रहा है। किस तरह गरीब महिलाओं की मुफ्त में ओपन हार्ट सर्जरी हुई है, मुफ्त में घुटने का ट्रांसप्लांट हुआ है और वे चलने के काबिल हुई हैं, ये उदाहरण है आयुष्मान भारत की सफलता का। माननीय प्रधानमंत्री जी ने स्वास्थ्य से जुड़े लगभग हर मुद्दे पर इस कार्यक्रम के जरिये चर्चा की है और लोगों से स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का आह्वान किया है। माननीय प्रधानमंत्री जी ने खेल और खिलाड़ियों की भी चर्चा की है कि वे किस तरह कठिन परिश्रम करके देश का नाम अंतर्राष्ट्रीय जगत में उंचा कर रहे हैं। आज हर जगह युवा ओलंपिक, कॉमनवेल्थ और एशियाड की चर्चा करते हैं। आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने मणिपुर की बहनों के बारे में चर्चा की।

माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दुनिया के अन्य देशों में कोरोना के खिलाफ लड़ाई केवल सरकार ने लड़ी लेकिन भारत में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में सरकार के साथ-साथ 130 करोड़ देशवासियों ने मिल कर लड़ाई लड़ी। विपक्ष ने ताली बजाने, थाली बजाने और दीया जलाने का मजाक उड़ाया लेकिन इन कार्यक्रमों ने 130 करोड़ देशवासियों के ‘स्व’ को जगाने के साथ-साथ उनके आत्मविश्वास को जगाये रखने में काफी मदद की। आज माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भारत के सामर्थ्य के बारे में चर्चा की। उन्होंने एक नौजवान के बारे में चर्चा की कि किस तरह मोटरसाइकिल में कार्बन कम और इंजन की इफिशियेंसी बढ़े, इस पर काम किया और भारत सरकार की आर्थिक मदद से उसका स्टार्ट-अप शुरू हुआ।

पार्टी पदाधिकारियों और पार्टी कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए श्री नड्डा ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि हर महीने हम इसी तरह एकत्र होकर मन की बात कार्यक्रम को सुनेंगे। इसमें माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा उठाये गए विषयों पर चिंतन, मनन करेंगे – उसका अनुसरण करेंगे और हमें आगे क्या करना है, इस पर भी चर्चा करेंगे। देश भर में लगभग 10.40 लाख बूथ हैं। हमारा लक्ष्य है कि मई, 2022 तक हर बूथ पर हर महीने मन की बात कार्यक्रम को इसी तरह सुना जाय। दिल्ली का कोई ऐसा बूथ न रहे, जहाँ मन की बात कार्यक्रम का आयोजन न हो। आदरणीय प्रधानमंत्री जी हर महीने हमसे, देशवासियों से जुड़ें और हम ही न जुड़ पायें, ऐसा नहीं होना चाहिए।