राहुल गांधी झूठे फोटो के माध्यम से राजनीति करने का प्रयास कर रहे हैं: डॉ संबित पात्रा

Published on:

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ संबित पात्रा ने आज भाजपा मुख्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित किया और भ्रम की राजनीति फ़ैलाने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गाँधी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि राहुल गांधी भली-भांति जानते हैं कि कांग्रेस अध्यक्षविहीन है, इसलिए कांग्रेस जमीन पर किसी भी विषय को उठाने के लिए असमर्थ नजर आती है, इसलिए वे झूठे फोटो के माध्यम से राजनीति करने का प्रयास कर रहे हैं.

डॉ पात्रा ने अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि देश में जब भी भ्रम और झूठ की राजनीति होती है, तो राहुल गांधी जी का हाथ होता ही है। आज पुनः राहुल गाँधी ने भ्रम की राजनीति फ़ैलाने का काम किया है. यूँ तो वे जमीन पर उतर कर सकारात्मक राजनीति नहीं करते लेकिन सोशल मीडिया पर सक्रिय रुप से भ्रम की राजनीति जरूर करते रहते हैं. आज राहुल गांधी ने किसान आंदोलन की पुरानी तस्वीर को ट्वीट कर उसे वर्तमान का फोटो बताने का कुत्सित प्रयास किया है। अपने संगठन को आगे नहीं बढ़ाना, अपने संगठन को अध्यक्ष विहीन रखना, परिश्रम नहीं करना और दूसरे के कंधों पर बंदूक रखकर चलाने का प्रयास करना राहुल गांधी जी की आदत बन चुकी है। 

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि ये वही राहुल गाँधी हैं जिन्होंने भारत की वैक्सीन नीति और कोरोना संकट काल में माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के अथक परिश्रम के ऊपर बहुत हमला किया था. राहुल गाँधी जी यदि आज माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का वैक्सीन संवाद सुने होंगे तो उन्हें पता चला होगा कि पूरे विश्व का सबसे बड़ा और सबसे तीव्र गति से टीकाकरण अभियान भारत में चल रहा है जिसे पूरा विश्व सलाम कर रहा है लेकिन राहुल गांधी आज नदारद हैं, वैक्सीनेशन को लेकर अब वो एक भी ट्वीट करते नजर नहीं आ रहे. 

डॉ पात्रा ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड टीकाकरण लाभार्थियों के साथ संवाद कर उन्हें बधाई भी दी है. हिमाचल प्रदेश, सिक्किम और दादर नागर हवेली ऐसे राज्य/केन्द्रशासित प्रदेश हैं जहाँ शत-प्रतिशत कोविड टीकाकरण की पहली खुराक लग चुकी है. त्रिपुरा जैसे कई राज्य हैं जहां सुचारु रुप से टीकाकरण अभियान चल रहा है और यहाँ 80 फीसदी से ज्यादा टीकाकरण हो चुका है. देश में अब तक करीब 68.75 करोड़ वैक्सीन डोज एडमिनिस्टर किये जा चुके हैं। इतनी बड़ी आबादी को वैक्सीन लग जाने के बाद भी राहुल गांधी का एक भी ट्वीट नहीं आया है। पूरे टीकाकरण अभियान में दो दिन ऐसे भी रहे जब 1 एक करोड़ से अधिक वैक्सीन लगी थीं। इसके बावजूद झूठी तस्वीर के माध्यम से भ्रम फैलाने वाले इस पर चुप रहते हैं। उन्हें परिश्रम नहीं करना है और दूसरे के कंधे पर बंदूक चलाना उनकी आदत है।

राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ सरकार पर हमला करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के पिता और उनके परिवारजन स्वयं ही जातिवाद और विद्वेष फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. उनके खिलाफ अब FIR तक की नौबत आ गई है. राहुल गांधी को छत्तीसगढ़ में रही विद्वेष की राजनीति नजर नहीं आ रही. आज ही राजस्थान के जालौर जिले से एक नाबालिग के साथ बलात्कार की खबर आई है लेकिन राहुल गाँधी जी कांग्रेस शासित राज्यों में घटित इन सभी घटनाओं से अनभिज्ञ बने पड़े हैं, यही उनकी खूबी है. राहुल गाँधी खुद को जनेऊधारी कहते हैं और विराट हिन्दू से अपने को परिभाषित करते रहे हैं. क्या एक बार भी राहुल गाँधी ने छत्तीसगढ़ में चल रहे वैमनस्य की राजनीति पर वहां के मुख्यमंत्री से बात की?  

डॉ पात्रा ने कहा कि एक ओर राहुल गांधी जैसे भ्रम की राजनीति करने वाले नेता हैं तो दूसरी ओर माननीय प्रधानसेवक नरेन्द्र मोदी जी हैं. अथक परिश्रम करके माननीय प्रधानमंत्री ने जिस प्रकार का स्थान भारत की जनता और विश्व में बनाया है, यह अपने आप में अद्वितीय है. अभी हाल फिलहाल, यूएस की ग्लोबल रेटिंग एजेंसी द मॉर्निंग कंसल्ट के सर्वे में यह बात सामने आई है कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता बन गए हैं। सर्वे के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अप्रूवल रेटिंग में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत दुनिया के 13 राष्ट्र प्रमुखों को पीछे छोड़ दिया है। पीएम मोदी की अप्रूवल रेटिंग 70% है जो अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है. इस अप्रूवल रेटिंग का आधार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में गरीबों, किसानों और वंचितों के लिए चलाये जा रहे विभिन्न जनकल्याणकारी कार्य हैं. 

भाजपा प्रवक्ता ने केंद्र सरकार के उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि पिछले 70 सालों से किसानों की स्थिति क्या थी, ये किसी से छिपी नहीं है. केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने पिछले सात सालों में किसानों को राहत दी है. हमारी सरकार गरीबों और किसानों के लिए काम कर रही है. पहले यूरिया के लिए गोली चल जाती थी लेकिन अब ऐसा नहीं होता है. किसानों तक यूरिया आसानी से पहुंच जा रहा है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के माध्यम से 80 करोड़ जनता तक लगातार दूसरे साल मार्च से लेकर नवंबर तक आवश्यक मुफ्त अनाज पहुंचाई गई. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के माध्यम से 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा पिछले साल मार्च में की गयी थी जिससे गरीबों को ‘कोरोना वायरस’ के खिलाफ लड़ाई लड़ने में काफी मदद मिली है. किसान सम्मान निधि योजना के तहत लगभग डेढ़ लाख करोड़ करोड़ रुपये बिना बिचौलियों के, किसानों के खाते में पहुँचाना अपने आप में विश्व का एक रिकॉर्ड है. एग्री इन्फ्रास्ट्रक्चर में एक लाख करोड़ रुपये निवेश करना और रबी-खरीफ दोनों फसलों पर डेढ़ गुना एमएसपी देना भी अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है. फसलों का रिकॉर्ड उत्पादन, रिकॉर्ड खरीद और रिकॉर्ड भुगतान भी माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में संभव हो पाया है. गन्ना किसानों के लिए भी हाल फिलहाल एफआरपी रिकॉर्ड संख्या के साथ बढ़ाई गई है. डीएपी की प्रति बोरी में 1200 रुपये की सब्सिडी भी किसान कल्याण के निहितार्थ ही है.